in

प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र में वृक्षारोपण हुआ फेल

वायु प्रदूषण के मामले में भारत के सबसे प्रदूषित शहर देश के सबसे ज़्यादा जनसँख्या वाले राज्य, उत्तर प्रदेश, में हैं। वायु प्रदूषण पर लगाम लगाने में पेड़ पौधों की निर्णायक भूमिका रहती है। और देश की राजनीति में भी इस प्रदेश की निर्णायक भूमिका रहती है।

इसी उत्तर प्रदेश में है दुनिया का अजूबा ताज महल, और इसी उत्तर प्रदेश में है प्रधान मंत्री मोदी की लोकसभा चुनाव क्षेत्र वाराणसी। आगरा के साथ-साथ मोदी जी का संसदीय क्षेत्र वायु प्रदूषण के मामले में देश के लिए चिंता का विषय है।

लेकिन लीगल इनिशिएटिव फॉर फॉरेस्ट एंड एनवायरनमेंट (LIFE) की ताज़ा विश्लेषण रिपोर्ट के मुताबिक़ साल 2019 में एनसीएपी (NCAP) के तहत आगरा और वाराणसी में हुए वृक्षारोपण के विश्लेषण में पाया कि उत्तर प्रदेश के इन दोनों शहरों में राष्ट्रीय स्वच्छ वायु कार्यक्रम (NCAP) के तहत किए गए पौधा रोपण, सही तरीके से न किये जाने के कारण अप्रभावी हैं।

इन शहरों में विदेशी और असंगत प्रजातियों या सजावटी प्रजातियों को लगाया है जो वायु प्रदूषण को कम करने में फायदेमंद नहीं होंगे।

यह अध्ययन विभिन्न विभागों से सूचना का अधिकार (आरटीआई) प्रतिक्रियाओं के विश्लेषण पर आधारित है। इस अध्ययन में प्रदूषण के केंद्रों के साथ वृक्षारोपण स्थानों को सूपरइम्पोज़ किया गया।अधिकारियों द्वारा साझा किए गए वृक्षारोपण स्थानों को, शहरी उत्सर्जन के APnA सिटी कार्यक्रम से नक्शों का उपयोग करके, गूगल धरती (Google Earth) का उपयोग करके प्लॉट किया गया और शहर के प्रदूषण हॉटस्पॉट्स पर सूपरइम्पोज़ किया गया। कुछ प्रदूषित क्षेत्रों की पहचान निरंतर परिवेश वायु गुणवत्ता निगरानी स्टेशन (CAAQMS) से PM2.5 मूल्यों के आधार पर की गई और वृक्षारोपण स्थानों के साथ सूपरइम्पोज़ किया गया।

भारत के सबसे प्रदूषित शहरों में से एक, वाराणसी में प्रदूषण के गलियारों की जगह यह बागान आवासीय क्षेत्रों में लगाये गए थे। वाराणसी में कुल 25 वृक्षारोपण स्थानों में से 60% आवासीय क्षेत्रों में हैं जिसकी तुलना में सिर्फ 8% यातायात हब और जंक्शनों के आसपास हैं।

इस बारे में पर्यावरणविद डॉ सीमा जावेद का कहना है कि पेड़ों को प्रदूषण वाले हॉटस्पॉट क्षेत्रों में प्रत्यारोपित किया जाना ज़रूरी है । तब ही एनसीएपी (NCAP) का लक्ष्य पूरा होगा।

इस काम के लिए न तो उचित स्थान चुने गए और न ही पौधों की सही प्रजातियाँ । वृक्षारोपण अभियान ने प्रमुख प्रदूषण वाले हॉटस्पॉट को अपवर्जित रखा या ऐसी प्रजातियों का इस्तेमाल किया जो प्रदूषण को अवशोषित नहीं करती हैं। अध्ययन के मुताबिक़ आगरा व वाराणसी हो रहे वृक्षारोपण की योजना में उपयुक्त स्थानों या प्रजातियों की पहचान नहीं होने से , प्रदूषण की रोकथाम का उद्देश्य काफी हद तक अधूरा ही रह गया है । क्योंकि इन दोनों ही शहरों में यह काम प्रदूषण के केंद्रों, यातायात गलियारों और राजमार्गों जैसे प्रदूषण के केंद्रों को प्राथमिकता देने में विफल रहे हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि केवल पेड़ लगाने से प्रदूषण का स्तर कम नहीं हो सकता है। इसमें कहा गया है, शहरों की ग्रीनिंग को एक सुनियोजित वैज्ञानिक प्रक्रिया होना चाहिए जिसका उद्देश्य प्रदूषण नियंत्रण और घास, झाड़ियों और पेड़ों के मिश्रण के माध्यम से जैव विविधता को बढ़ाना है। यह मिशन पेरिस समझौते में भारत के राष्ट्रीय स्तर पर निर्धारित योगदान का हिस्सा है, और 10 वर्षों में पांच मिलियन हेक्टेयर वन / वृक्ष कवर को जोड़ने की योजना है। एनसीएपी (NCAP) दस्तावेज़ के अनुसार, इन वृक्षारोपणों को क्षतिपूरक वनीकरण कोष का उपयोग करके वित्त पोषित किया जाना है, जो कि ग्रीन इंडिया मिशन का हिस्सा है।

बात आगरा की करें तो आगरा में, 1,11,000 पेड़ों और झाड़ियों के साथ 21 स्थानों पर वृक्षारोपण किया गया है। यह सारा वृक्षारोपण वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान किया गया। विश्लेषण के अनुसार अधिकांश वृक्ष शहर के उत्तर में लगाए गए हैं। जहां पर प्रदूषक तत्वों का उत्सर्जन अधिक है, उन जगहों को छोड़ दिया गया।

प्रजातियों के चयन के संदर्भ में, कांजी (मिलेटिया पिन्नाटा) वृक्ष आगरा में सबसे अधिक रोपित प्रजाति है। शीशम (डालबर्गिया सिसो) और चिलबिल / पाप्री (होलोपेलिया इन्टीगिफोलिया) अन्य दो प्रमुख हैं। वे प्रजातियाँ जो रोपित की गई हैं। ये तीनों उपयुक्त विकल्प हैं क्योंकि इनमें लचीलापन है। साथ ही वायु प्रदूषण का मुकाबला करने की क्षमता।

वहीँ दूसरी तरफ Tecoma (Tecoma stans) भी बड़ी संख्या में लगाए गए हैं। यह प्रजाति भारतीय वनस्पति के अनुरूप नहीं है। इस प्रजाति की विशेषताएँ भी ऐसी है जो मनुष्यों, जानवरों और पर्यावरण के लिए हानिकारक हैं। इसका चयन प्रजाति इसलिए भी अनुचित है क्योंकि यह हवा में सुधार करने के बजाय, अन्य समस्याएं पैदा कर सकती है।

अब एक नज़र वाराणसी पर डालें तो पता चलता है कि वाराणसी में 25 स्थानों पर वृक्षारोपण किया गया है। उनमें से कुछ केन्द्रीय सागर हैं- वरुण कॉरिडोर, संत रविदास पार्क, मौजा- दांदूपुर, अंबेडकर स्टेडियम और लालपुर योजना एल.आई.जी. वृक्षारोपण का तिरछा वितरण यहाँ देखा गया है। कुल 25 स्थानों में से पंद्रह आवासीय क्षेत्र और सात सार्वजनिक स्थान या पार्क हैं। दो जगहों पर वृक्षारोपण अवश्य किए जाते हैं। सड़कों और ट्रैफ़िक जंक्शनों के अलावा प्रदूषण के

हॉटस्पॉट्स। इनमें एक स्थान पर 50 से 200 के PM2.5 उत्सर्जन के साथ अत्यधिक प्रदूषित क्षेत्र के भीतर है टन/वर्ष/ग्रिड।

शहर की प्रजातियों की सूची के विश्लेषण से पता चलता है कि NCAP द्वारा जो तीन मंजिला सामुदायिक वृक्षारोपण शैली दी गई है, उसका पालन ही नहीं किया गया है। इसकी केवल तीन झाड़ीदार प्रजातियां हैं और कोई जड़ी-बूटी / झाड़ी छोटे आकार की नहीं है प्रजाति। सीपीसीबी (केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड) द्वारा इन चुनी गई प्रजातियों की सिफारिश ही नहीं की गई है।

ग्रीन बेल्ट पर पेलोफ़ोरहुम (पेलोफ़ोरहम टेरोकार्पम) और कनक चंपा (Pterospermum acerifolium) चौथे सबसे अधिक लगाए गए हैं, भले ही वे CPCB दिशानिर्देश का हिस्सा नहीं हैं। अर्जुन जैसी प्रजाति, बॉटलब्रश, कैसिया, गूलर, नीम और सगुन जो प्रदूषण उन्मूलन के लिए अच्छे हैं, केवल एक या दो स्थानों पर लगाए गए। प्रजातियों के चयन में इन अंतरालों को देखकर, यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि यह वृक्षारोपण वायु प्रदूषण को कम करने में सहायक नहीं होगा।

LIFE के मैनेजिंग ट्रस्टी रितविक दत्ता कहते हैं, “गलत स्थानों पर और गलत प्रजातियों के साथ शहरों में हरियाली बढ़ाने से प्रदूषण कम नहीं होगा। प्रदूषण के केंद्रों में मौजूदा पेड़ों की सुरक्षा को पहली प्राथमिकता देनी चाहिए।

The views and opinions expressed by the writer are personal and do not necessarily reflect the official position of VOM.
This post was created with our nice and easy submission form. Create your post!

What do you think?

Written by Nishant

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

Comments

0 comments