in

भारत का मुसलमान

भारत जो कभी ऋषियों, मुनियो, सूफ़ी संतो का देश कहा जाता था, आज अपनी उस पहचान को बचाने की लड़ाई लड़ रहा है! पिछले कुछ बरसों में लोगों की सेंटीमेंट बहुत ही रेकॉर्ड गति से कमज़ोर हुई है! सेंटीमेंट इतना कमज़ोर हो चुका है की किसी के गाली भर दे देने मात्र से उसको मौत के घाट उतार दिया जाता है! सहनशक्ति लगभग खत्म हो चुकी है, रोज़ाना हम पांच दस रूपये के लिए मौत की खबरें पढ़ते हैं!

संवेदनाएँ मर चुकी, सहनशीलता अपनी साँसे गिन रहा है, कल हिन्दू मुस्लिम एकता की मिसाल दी जाती थी लेकिन आज लोग खुले तौर पर ऐसे शब्दों से गुरेज़ करते नज़र आते हैं! कभी सेकुलरिज्म पर भारत को नाज़ था, आज उसे कुछ लोग गाली समझते हैं तो कुछ लोग गाली और आपत्तिजनक शब्द समझते हैं तो वहीं दूसरी ओर कट्टरवाद का लोग गर्व से प्रदर्शन करते हैं!

सिस्टम का ये हाल है मानो उनको क्राइम से नहीं नाम से नफरत हो, अब हम उसमें भी हिन्दू, मुसलमान, प्रान्त और ज़ात ढूंढते है!

पूर्वाग्रह इस क़दर हावी है की घटना होते ही हम जाती और धर्म का अंदाजा लगा लेते हैं !

खासकर मुसलमानों की एक ऐसी छवि बना दी गई है कि अगर कहीं कोई घटना होती है तो लोग बिना सोचे या जाने गाली या आपत्तिजनक शब्दों के साथ मुसलमानो को गाली देना शरू कर देते हैं ! सहने के साथ-साथ सोचने की शक्ति हमारी शून्य होती जा रही है!

ऐसे माहौल में भारत में मुसलमान होना कितना कठिन और चुनौतीपूर्ण है?

ऐसा नहीं है कि माहौल, कम पढ़े लिखे या निचले तबके में बिगड़ी हैं, बल्कि पढ़े लिखे, वाइट कॉलर जॉब, डॉक्टर्स, रिटायर्ड पुलिस, फौजी यहाँ तक पत्रकारों में नफरत कूट कूट कर भर दी गई है या भरी हुई है! टी वी खोलने के बाद ऐसा महसूस होता है की देश में सारी मुसीबतों के जड़ मुसलमान ही हैं! मुसलमानों के खाने पीने बोलने बात करने से लेकर हर चीज में पूर्वाग्रह शामिल है!

इसे विडंबना कहें या कुछ और लेकिन ये सच है की देश के मुसलमानों ने हमेशा अपना रहनुमा या नेता किसी गैर मज़हब, सेक्युलर सोच रखने वाले नेताओं को ही माना है.

जवाहर लाल नेहरू, जयप्रकाश नारायण,  ममता बैनर्जी, लालू प्रसाद, मुलायम सिंह, के सी आर या अरविन्द केजरीवाल जैसे नेता हों या इन जैसे ही कोई और, ऐसे नेताओं को ही देश के ज़्यादातर मुस्लिमों ने अपना नेता चुना है और माना लेकिन इन नेताओं में से किसी ने मुसलमानों के बारे में सही मायने में क्या किया सिवाए एक वोट बैंक समझने और तुष्टिकरण के?  शायद नहीं.

वैसे तो देश के नेताओं से उम्मीद करना ही बेईमानी होगी बावजूद इसके किसी ने भी कुछ सराहनिय काम नही किया.

मेरी जितनी जानकारी है उसके अनुसार जवाहर लाल नेहरू के बाद सभी राजनेताओं ने मुसलमानों का इस्तेमाल ही किया है,  इंदिरा गाँधी के दौर में मुसलमानों के प्रति तुष्टिकरण की राजनीती की शरुआत हुई जो राजीव गाँधी के ज़माने में चरम पर पहुंची|

यही वजह है की  कभी बाबर के नाम पर तो कभी सीरिया, लीबिया या ऐसे देशों के नाम पर ताने मारे जाते हैं जिसके बारे में ना तो बोलने और ना सुनने वाले को पता होता है ! जबकी सचाई ये है की दुनिया की 60 फीसदी से ज़्यादा मुस्लिम आबादी मध्य पूर्व और पाकिस्तान के बाहर रहते हैं.

मुसलमानों को हमेशा यह एहसास दिलाया जाता हैं कि इस देश में सरकार से सवाल मुसलमान नहीं पूछ सकता! मुसलमानों को प्रदर्शन करने का अधिकार नहीं है, अधिकारों और हक़ूक की बात मुसलमान नहीं कर सकता. लड़ने वाला कोई भी हो गाली मुसलमानों को ही दी जाएगी इसका जीता जागता उदाहरण सुशांत सिंह राजपूत और कँगना रनौत का मामला है!

कुछ पढ़ा लिखा तबका इस बात की वकालत भी करता है की मुसलमानों से मतों का अधिकार भी छीन लिया जाना चाहिये क्यूँकि उनकी वजह से देश की सत्ता बहुत प्रभावित होती है, मुझे ऐसे लोगों से संवेदनाएँ हैं, इनलोगो को ये बात भी कहनी चाहिये की देश के मुसलमानों को टैक्स भी नहीं देना चाहिये और वोट भी नहीं जैसा कि कुछ तबका चाहता है. एक तरफ जहाँ एक अखंड भारत जिसमें बांग्लादेश और पाकिस्तान को शामिल करने की बात होती है तो वहीं दूसरी ओर भारत के लगभग 15 प्रतिशत आबादी को आप देश के 85 फीसदी आबादी का दुश्मन घोषित करने के लिए जी जान से कोशिश कर रहे हैं. 

मुसलमानों से नफरत इस तरह हमारी सोच में घुस चुकी है कि हम मुसलमानों को ना जाने किस-किस नाम से पुकारने लगे हैं! उनकी तरक़्क़ी पर सवाल करते हैं, उनके पढ़ने लिखने से खाने पीने तक पर सवाल किया जाता है, ताल ठोक के किसी मुस्लिम बुज़ुर्ग से बदतमीज़ी करता है तो प्रशासनिक सेवाओं के परीक्षा में मुसलमनो की कामयाबी खटकती है, और फिर यही लोग बाद में ये भी कहते हैं ये क़ौम तरक़्क़ी करना नहीं चाहती, हालाँकि आबादी के अनुपात में मुसलमानों की आबादी स्कूल कॉलेज से लेकर सरकारी नौकरी तक में कम है, लेकिन बावजूद इसके अगर कुछ लोग मेहनत की बदौलत आगे बढ़ते हैं तो उन्हें उसी के साथ जिहाद जोड़ कर ओछी और गिरी हुई सोच का प्रदर्शन किया जाता है.

भेदभाव अब टीवी और अखबारों के ज़रिये की जाने लगी है! कुछ समय पहले का किस्सा आपको याद ही होगा जब मैसूर के एक अख़बार ने एक धर्म विशेष के नरसंहार के लिए एक एडिटोरियल लिख दिया था, हालाँकि बाद में उसे हटाया गया लेकिन नफरत फैलाई जा चुकी थी ! इनके जिहादों के सवरूप को देख के खुद मौलवी और इस्लाम के जानकार सदमे हैं, आखिर ये जिहाद कहाँ था, जिहाद एक अलग टॉपिक है जिस पर बात फिर कभी !

देश का मुस्लिम होने की वजह से पहले सरकार आपको दूसरे दर्जे का नागरिक घोषित करने की कोशिश करती हैं, फिर आप विरोध करते हैं तो सिस्टम आपको जेल में डाल देता है! मुसलमान होने की वजह से आपको दंगाई मारते हैं फिर पुलिस भी आपको ही पकड़ के जेल में डालती है.

टीवी डिबेट और सियासत में मुसलामनों की ख़ास पहचान बना दी गई है! इस पहचान को बनाने में भारतीय सिनेमा भी पीछे नही है, पिछले एक दशक में अगर सियासत या राष्ट्रवाद पर आधारित फिल्मों को छोड़ दें तो देश के मुसलमानों और उनकी एक आम सी ज़िन्दगी पर कितनी फिल्मे बनाई गई हैं? दो चार फिल्मों को छोड़ दें तो ऐसी कौन सी फिल्म है जिसमें एक आम से भारतीय मुस्लिम फॅमिली को दिखाया गया हो?

हमने देश की ज़्यादातर आबादी को मुसलमानों को खुद से समझने ही नहीं दिया है, उन्हें जालीदार बनियान, सर पर टोपी लाल दाढ़ी या पर्दे में लिपटी महिला तक समेत कर रख दिया है!

एक बिना कुरता पाजामा वाला मुस्लिम, बिना दाढ़ी टोपी वाला मुस्लिम भी उतना ही मुसलमान है जितना एक कुरता पाजामा और दाढ़ी टोपी वाला ! हमारे अखबार और टीवी चैनल्स और सियासत ने कभी मुसलमानों समझने का मौका ही नहीं दिया है! 

The views and opinions expressed by the writer are personal and do not necessarily reflect the official position of VOM.
This post was created with our nice and easy submission form. Create your post!

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

Comments

0 comments