in

भीषण हीटवेव: अपने किये की सज़ा भुगत रहे हैं अमेरिका और कनाडा के ल

ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन के कारण होने वाले जलवायु परिवर्तन ने हीटवेव होने की संभावना कम से कम 150 गुना अधिक कर दी। 

कनाडा और अमेरिका की जनता बेतहाशा चढ़ते पारे की शक्ल में जिस परेशानी से ग़ुज़र रही है, उसके लिए वो सीधे तौर पर ज़िम्मेदार है।

दरअसल प्रमुख जलवायु वैज्ञानिकों की एक अंतरराष्ट्रीय टीम द्वारा एक रैपिड एट्रिब्यूशन विश्लेषण के अनुसार, अमेरिका और कनाडा के कुछ हिस्सों में पिछले हफ्ते की रिकॉर्ड-ब्रेकिंग हीटवेव बिना मानव-जनित जलवायु परिवर्तन के प्रभाव के असंभव होती। वैज्ञानिकों ने पाया कि ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन के कारण होने वाले जलवायु परिवर्तन ने हीटवेव होने की संभावना कम से कम 150 गुना अधिक कर दी।

अमेरिका और कनाडा के प्रशांत उत्तर पश्चिमी क्षेत्रों में ऐसे तापमान देखे गए जो कई डिग्री से रिकार्ड्स तोड़ते हैं, जिसमें लिटन गांव में 49.6ºC (121.3ºF) का एक नया सर्वकालिक कनाडाई तापमान रिकॉर्ड शामिल है – 45ºC (113ºF) के पिछले राष्ट्रीय रिकॉर्ड से काफ़ी बढ़कर। रिकॉर्ड स्थापित करने के कुछ ही समय बाद, लिटन एक जंगल की आग में काफ़ी हद तक नष्ट हो गया।

आज होने वाली हर हीटवेव जलवायु परिवर्तन से अधिक संभावित और अधिक तीव्र हो जाती है। इन उच्च तापमानों पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को नापने के लिए, वैज्ञानिकों ने, सहकर्मी-समीक्षित विधियों का पालन करते हुए, 1800 के दशक के उत्तरार्ध से ग्लोबल वार्मिंग के लगभग 1.2 डिग्री सेल्सियस (2.2ºF) के बाद आज जैसा जलवायु है उसकी तुलना अतीत के जलवायु के साथ करने के लिए वलोकनों और कंप्यूटर सिमुलेशन का विश्लेषण किया।

अनुभव किए गए चरम तापमान पिछले देखे गए तापमानों की सीमा से बहुत बाहर थे, जिससे यह नापना मुश्किल हो गया कि यह घटना वर्तमान जलवायु में कितनी दुर्लभ है और मानव-जनित जलवायु परिवर्तन के बिना कितनी दुर्लभ होती – लेकिन शोधकर्ताओं ने निष्कर्ष निकाला कि यह मानव प्रभाव के बिना “लगभग असंभव” होती।

शोधकर्ताओं ने दो वैकल्पिक स्पष्टीकरण पाए कि कैसे जलवायु परिवर्तन ने असाधारण गर्मी को और अधिक संभावित बना दिया। एक संभावना यह है कि, जबकि जलवायु परिवर्तन ने इस तरह की अत्यधिक हीटवेव के होने की संभावना को बढ़ा दिया है, यह वर्तमान जलवायु में भी एक बहुत ही असामान्य घटना है। पहले से मौजूद सूखा और असामान्य वायुमंडलीय परिसंचरण की स्थितियां, जिन्हे ‘हीट डोम’ के रूप में जाना जाता है, जलवायु परिवर्तन के साथ मिलकर बहुत अधिक तापमान पैदा करती हैं। इस स्पष्टीकरण में, जलवायु परिवर्तन के प्रभाव के बिना अधिकतम तापमान लगभग 2°C (3.6°F) कम होता।

जब तक समग्र ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को रोका नहीं जाता, तब तक वैश्विक तापमान में वृद्धि जारी रहेगी और इस तरह की घटनाएं लगातार होती रहेंगी। उदाहरण के लिए, भले ही वैश्विक तापमान वृद्धि 2 डिग्री सेल्सियस (3.6 डिग्री फारेनहाइट) तक सीमित हो, जो कि 2050 तक हो सकता है, वैज्ञानिकों ने पाया कि इस तरह की हीटवेव हर 5 से 10 साल में एक बार आती है।

एक वैकल्पिक संभावित स्पष्टीकरण यह है कि जलवायु प्रणाली ने एक नॉन-लीनियर (गैर-रेखीय) सीमा को पार कर लिया है, जहां समग्र ग्लोबल वार्मिंग की एक छोटी मात्रा अब तापमान में अत्यधिक तेज़ी से वृद्धि कर रही है, जो अब तक देखी गई है – भविष्य के अध्ययनों में खोजे जाने की संभाव्यता। इसका मतलब यह होगा कि पिछले सप्ताह की घटना की तरह रिकॉर्ड तोड़ने वाली हीटवेव पहले से ही जलवायु मॉडल की भविष्यवाणी की तुलना से ज़्यादा ही होने की संभावना है। इससे इस बात पर सवाल उठते हैं कि वर्तमान विज्ञान जलवायु परिवर्तन के तहत हीटवेव्स के व्यवहार का कितनी अच्छी तरह अंदाज़ लगा सकता है।

घटना एक मजबूत चेतावनी देती है कि अत्यधिक तापमान, वर्तमान में अपेक्षित तापमान सीमा के बाहर, 50°N की उच्चाई तक के अक्षांशों पर हो सकता है, एक रेंज जिसमें सभी समीप अमेरिका, फ्रांस, जर्मनीके कुछ हिस्से, चीन और जापान शामिल हैं। वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि एडाप्टेशन योजनाओं को हाल के दिनों में पहले से देखी गई सीमा से काफ़ी अधिक तापमानों के लिए डिज़ाइन किया जाना चाहिए।

अध्ययन विश्व मौसम एट्रिब्यूशन समूह के हिस्से के रूप में 27 शोधकर्ताओं द्वारा आयोजित किया गया था, जिसमें कनाडा, अमेरिका, जर्मनी, नीदरलैंड, स्विट्जरलैंड, फ्रांस और यूके में विश्वविद्यालयों और मौसम विज्ञान एजेंसियों के वैज्ञानिक शामिल थे।

इस संदर्भ में कुछ विशेषज्ञों की राय कुछ इस प्रकार है।

“जो हम देख रहे हैं वह अभूतपूर्व है। चार या पांच डिग्री सेल्सियस (सात से नौ डिग्री फ़ारेनहाइट) से रिकॉर्ड ब्रेक नहीं होना चाहिए। यह एक ऐसी असाधारण घटना है कि हम इस संभावना से इंकार नहीं कर सकते कि हम आज जिस चरम गर्मी को अनुभव कर रहे हैं वो हम केवल ग्लोबल वार्मिंग के अधिक उच्च स्तर पर अनुभव करने की अपेक्षा करते थे।” – फ्रेडरिक ओटो, पर्यावरण परिवर्तन संस्थान, ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय

“जबकि हम अपेक्षा कर रहे हैं कि हीटवेव ज़्यादा लगातार और तीव्र हो जाएंगे, इस क्षेत्र में गर्मी के इस तरह के स्तर को देखना अप्रत्याशित था। यह इसपर गंभीर सवाल उठाता है कि क्या हम वास्तव में समझते हैं कि कैसे जलवायु परिवर्तन हीटवेव्स को अधिक गर्म और अधिक घातक बना रहा है।” – गीर्ट जैन वैन ओल्डनबोर्ग, रॉयल नीदरलैंड मौसम विज्ञान संस्थान

“जलवायु परिवर्तन इस तरह की अत्यंत दुर्लभ घटनाों को बारंबार होनेवाली बना रहा है।  हम अनजान क्षेत्र में क़दम रख रहे हैं। पिछले सप्ताह कनाडा में अनुभव किए गए तापमान ने लास वेगास या स्पेन के रिकॉर्ड तोड़ दिए होंगे। लेकिन, अगर हम ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को रोकने और ग्लोबल वार्मिंग को रोकने का प्रबंधन नहीं करते हैं तो तापमान और बहुत अधिक रिकॉर्ड तक पहुंच जाएगा।” – सोनिया सेनेविरत्ने, वायुमंडलीय और जलवायु विज्ञान संस्थान, ETH ज़्यूरिख

“2019 और 2020, दोनों में सबसे घातक आपदाओं के वैश्विक चार्ट में हीटवेव सबसे टॉप पर हैं। यहां हमारे पास एक और भयानक उदाहरण है — दुख की बात है कि अब ये अब चौंकाने वाली नहीं बल्कि एक बहुत ही चिंताजनक वैश्विक प्रवृत्ति का हिस्सा है। इनमें से कई मौतों को अधिक गर्म हीटवेव्स, जिनका हम इस क्षेत्र में और दुनिया भर में सामना कर रहे हैं, के प्रति एडाप्टेशन से रोका जा सकता है।” – मार्टिन वैन आल्स्ट, रेड क्रॉस रेड क्रिसेंट क्लाइमेट सेंटर और यूनिवर्सिटी ऑफ़ ट्वेंटे

“संयुक्त राज्य अमेरिका में, गर्मी से संबंधित मोर्टेलिटी मौसम से संबंधित नंबर एक हत्यारा है, मगर उनमें से लगभग सभी मौतों को रोका जा सकता है। हीट एक्शन प्लान, हीटवेव अर्ली वार्निंग और रिस्पांस सिस्टम्स सहित हमारे निर्मित वातावरण में संशोधनों को प्राथमिकता देकर ताकि एक अधिक गर्म भविष्य को घातक नहीं होना हो, गर्मी की आपात स्थितियों के लिए तैयारियों को बढ़ाकर वर्तमान और भविष्य की गर्मी से संबंधित रुग्णता और मृत्यु दर को कम कर सकते हैं।” – क्रिस्टी एल. ईबी, सेंटर फॉर हेल्थ एंड द ग्लोबल एनवायरनमेंट, वाशिंगटन विश्वविद्यालय

“यह घटना एक बड़ी चेतावनी होनी चाहिए। वर्तमान में हम उन तंत्रों को अच्छी तरह से नहीं समझते हैं जिनके कारण ऐसे असाधारण उच्च तापमान होते हैं। हमने शायद जलवायु प्रणाली में एक सीमा पार कर ली है जहां अतिरिक्त ग्लोबल वार्मिंग की थोड़ी मात्रा अत्यधिक तापमान में तेज़ी से वृद्धि का कारण बनती है” – डिम कौमौ, पर्यावरण अध्ययन संस्थान (VU एम्स्टर्डम), रॉयल नीदरलैंड मौसम विज्ञान संस्थान (KNMI)

“यह देखना आश्चर्यजनक है कि हमने केवल एक सप्ताह में क्या हासिल किया है, 27 वैज्ञानिकों और स्थानीय विशेषज्ञ अनुसंधान संस्थानों और मौसम विज्ञान एजेंसियों के साथ जो इस रैपिड एट्रिब्यूशन में शामिल हैं। दुनिया भर से ज्ञान और मॉडल डाटा का संयोजन व्यापक अध्ययन परिणामों में विश्वास बढ़ाता है। ” – स्जोक्जे फिलिप और सारा क्यू, अध्ययन प्रमुख, रॉयल नीदरलैंड मौसम विज्ञान संस्थान (KNMI)

www.climatekahani.live

The views and opinions expressed by the writer are personal and do not necessarily reflect the official position of VOM.
This post was created with our nice and easy submission form. Create your post!

What do you think?

Written by Nishant

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

Comments

0 comments