in , ,

भारत में कोरोनो वायरस( COVID-19) का कहर

कोरोनो वायरस COVID ​​-19 ,2020 की शुरुआत में, चीन में दिसंबर 2019 के प्रकोप के बाद, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने SARS-CoV-2 को एक नए प्रकार के वायरस के रूप में पहचाना। इसका प्रकोप तेजी से दुनिया भर में फैल गया।

COVID19

कोरोनो वायरस COVID ​​-19 ,2020 की शुरुआत में, चीन में दिसंबर 2019 के प्रकोप के बाद, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने SARS-CoV-2 को एक नए प्रकार के वायरस के रूप में पहचाना। इसका प्रकोप तेजी से दुनिया भर में फैल गया। कोरोना वायरस  

COVID-19 का कहर  अब तक 187 देशों में फैल चुका है।आज दुनिया भर में कुल 36,64,098 मामलों की पुष्टि हो चुकी है और 2,57,302 की मौत हो चुकी है 22,07,357 मरीज़ों का उपचार जारी है और 11,99,439 लोगों को इलाज के बाद छुट्टी दे दी गई है।

विश्व में कोरोना वायरस से संबंधित आंकड़े

  • 36,64,098 मामले
  • 22,07,357 सक्रिय
  • 11,99,439 ठीक हुए
  • 2,57,302 मौत

भारत में कोरोना का कहर

भारत में मामलों की संख्या में दैनिक वृद्धि पिछले कुछ दिनों से 2,000 के आसपास रही है, पिछले 24 घंटों में नए मामलों की संख्या में भारी वृद्धि हुई है, जिनकी संख्या 3,900 के आसपास है।  COVID-19 से संक्रमित लोगों की सही संख्या किसी भी देश को नहीं पता है। हम सभी जानते हैं कि उन लोगों की संक्रमण स्थिति का डाटा हमारे पास है जिनका परीक्षण किया गया है। किन्तु पुष्ट मामलों की संख्या ,संक्रमित होने वाले लोगों की कुल संख्या नहीं है।COVID-19 से संक्रमित लोगों की सही संख्या कहीं अधिक है।

भारत में कोरोना वायरस से संबंधित आंकड़े

  • 49391 मामले
  • 33514 सक्रिय
  • 14183 ठीक हुए
  • 1694 मौत

भारत में संक्रमित मामलों की संख्या में वृद्धि का अंदाजा इन आंकड़ों से लगाया जा सकता है। सोमवार को कई स्थानों पर बड़ी भीड़ जमा होने के कारण और शारीरिक दूरी के मानदंडों की बड़े पैमाने पर अनदेखी की गई।कई राज्यों में, प्रवासी श्रमिकों की आवाजाही भी इसी तरह की स्थितियों में होती है। इस कारण में भारत में अचानक से संक्रमित लोगों की संख्या में एक बड़ा उछाल आया। यहां सवाल उठता है कि क्या लोगों के लिए अपनी जान से जरूरी अन्य काम हो गए हैं। जिसकी खातिर वह अपनी तथा अन्य लोगों की जान को खतरे में डाल रहे हैं। 6 मई 2020 के भारत के तात्कालिक आंकड़े अत्यंत चौकाने वाले हैं।भारत में कुल मामलों में 1,694 मौतों के साथ 49,391 मामले सामने आए। अभी भारत में 2,680 नए मामले जुड़ गए हैं जबकि 105 पीड़ितों की मृत्यु हो गई।15525 पुष्ट मामलों और 617 मौतों के साथ महाराष्ट्र सबसे अधिक प्रभावित राज्य है।

तात्कालिक आंकड़ों पर नजर डाली जाए तो महाराष्ट्र ,गुजरात, दिल्ली ,मध्य प्रदेश, राजस्थान, उत्तर प्रदेश इन सभी राज्यों में यह महामारी सबसे अधिक फैली है। इन्हीं के साथ तेलंगाना आंध्र प्रदेश पश्चिम बंगाल कर्नाटक जम्मू कश्मीर आदि राज्यों में भी स्थिति गंभीर बनी हुई है। तात्कालिक संक्रमितों की संख्या  से अंदाजा लगाया जा सकता है अब भारत में इस महामारी का विस्तार हो चुका है।

Covid-19 संक्रमित मरीजों का आंकड़ा बढ़कर 50,000 के करीब पहुंच गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से बुधवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक, देश में कोरोनावायरस से अब तक 1,694 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि संक्रमितों की संख्या 49,391 हो गई है।वहीं, पिछले 24 घंटों में कोरोना के 2,958 नए मामले सामने आए हैं और 126 लोग इसकी वजह से जान गंवा चुके हैं.। इस बीमारी से अब तक 14,183 मरीज ठीक को चुके हैं।

कोरोना से सर्वाधिक प्रभावित महाराष्ट्र में संक्रमितों का आकंड़ा 15525 पहुंच गया है। पिछले 24 घंटे में महाराष्ट्र में कोरोना के 841 नए मामले सामने आए और इस दौरान 34 लोगों की मौत हो गई ।वहीं, मुंबई देश का एकमात्र ऐसा शहर है जहां करीब 10 हजार कोरोना संक्रमण के मामले हैं। मुंबई में बीते 24 घंटे में कोरोनावायरस के 635 नए मामले सामने आए और इस दौरान 26 लोगों की मौत हो गई।

दिल्ली में अब कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा पांच हजार पार कर चुका है। दिल्ली सरकार की तरफ से जारी ताजा आंकड़ों के मुताबिक दिल्ली में अभी कोरोनावायरस के 5104 मामले हैं और अब तक 64 लोगों की इससे मौत हो चुकी है। दिल्ली में बीते 24 घंटे में कोरोना से किसी की जान नहीं गई है। क्या इन हालातों के चलते दिल्ली में लोकडाउन को हटा देना चाहिए। क्योंकि यदि  ऐसा हुआ तो दिल्ली जैसे महानगर में इस बीमारी को फैलने में ज्यादा समय नहीं लगेगा।

उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के मंगलवार को 118 नये मामले सामने आने के बाद मामलों की कुल संख्या 2,880 हो गई है। 987 लोग स्वस्थ होकर अपने घरों को चले गए हैं जबकि कोरोना वायरस से 56 लोगों की मौत हो चुकी है।अभी 1836 मरीजों का इलाज चल रहा है।

अन्य राज्यों के आंकड़े भी कुछ ज्यादा राहत की खबर नहीं दे रहे हैं।हर क्षेत्र में इतनी कड़ी पाबंदी के बावजूद भी कोरोनावायरस से संक्रमित मामलों में लगातार बढ़ोतरी देखी जा रही है। अतः आवश्यक है प्रत्येक व्यक्ति अपनी तरफ से थोड़ी और सावधानियां बरतें ।

हालांकि अन्य देशों की अपेक्षा भारत अभी भी इस महामारी के चरम खतरे से अभी बचा हुआ है। यदि अन्य देशों के आंकड़ों पर नजर डालें तो स्थिति अत्यंत भयावह प्रस्तुत होती है। अंततः फिलहाल भारत में स्थिति गंभीर रूप धारण करती जा रही है जोकि आने वाले समय में एक विशाल खतरे का रूप धारण कर सकती हैं। अतः यह अत्यंत आवश्यक हो गया है की प्रत्येक व्यक्ति अपनी सुरक्षा का दायित्व स्वयं ले। विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा जारी किए गए सभी निर्देशों का पालन करें तथा सरकार द्वारा लिए गए प्रत्येक फैसले में सहयोग करें। क्योंकि नियमों और सुरक्षा मानदंडों का उल्लंघन करके हम ना केवल अपनी जान को खतरे में डाल रहे हैं साथ ही साथ अन्य लोगों की जान को भी खतरे में डाल रहे हैं। यह हमारी जिम्मेदारी बनती है कि हम स्वयं को भी सुरक्षित रखें तथा साथ-साथ अपने आसपास वालों को भी सुरक्षा प्रदान करें। केवल अपने निजी स्वार्थ खाते किसी अन्य के भविष्य के साथ खिलवाड़ ना करें।

The views and opinions expressed by the writer are personal and do not necessarily reflect the official position of VOM.

This post was created with our nice and easy submission form. Create your post!

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

Comments

0 comments