in , , , ,

सिर्फ़ नेट ज़ीरो होने की घोषणा काफ़ी नहीं, पारदर्शिता भी ज़रूरी

तमाम देशों में आजकल होड़ है कि और कुछ न सही तो कम से कम जलवायु के लिए अपनी संवेदनशीलता तो जग ज़ाहिर कर दें। इस क्रम में नेट ज़ीरो होने की घोषणा आम हो रही है।

लेकिन वैज्ञानिकों का कहना है कि सिर्फ़ ये कह देना कि हम नेट ज़ीरो होने जा रहे हैं, काफ़ी नहीं।

नेचर मैगजीन में ताज़ा प्रकाशित कमेंट्री में साफ़ कहा गया है कि सरकारों और व्यवसायों को अपनी नेट-ज़ीरो जलवायु योजनाओं में पारदर्शिता को बढ़ाने की जरूरत है।

उनका कहना है कि नेट ज़ीरो की बात करने वाले देशों, कंपनियों और उनके सलाहकारों को अपने नेट ज़ीरो लक्ष्यों के तीन पहलुओं को स्पष्ट करने की आवश्यकता है। और ये तीन पहलु हैं, प्रतिबद्धताओं का दायरा; उन प्रतिबद्धताओं को पर्याप्त और निष्पक्ष कैसे माना जाता है इस पर साफ़ स्थिति; और नेट ज़ीरो होने का एक ठोस रोडमैप।

आने वाले शुक्रवार, 19 मार्च, को फ्राइडे फॉर फ्यूचर के बैनर तले जलवायु परिवर्तन के ख़िलाफ़ युवा क्रांतिकारियों की अगली वैश्विक हड़ताल शुक्रवार होनी है। और इस बार इन युवाओं का मुद्दा है खोखले वादों का विरोध और इसी वजह से नेचर की इस कमेंट्री का इस स्ट्राइक में गूंजना तय है।

नेचर में प्रकाशित यह पेपर बताता है कि नेट-ज़ीरो को ले कर किये जा रहे वादों का फ़िलहाल आंकलन करना मुश्किल है क्योंकि ऐसी कोई व्यवस्था या मानक है ही नहीं अभी जिसके सापेक्ष इन्हें जांचा जा सके और इसी वजह से मौजूदा रणनीतियों को समझा नहीं जा सकता।

अगर पेपर से मिलते मुख्य संदेशों की बात करें तो वो कुछ इस प्रकार हैं:

-वर्तमान नेट-शून्य योजनाओं में पर्याप्त विवरण और पारदर्शिता नहीं है।

-शब्दावली पर कोई मानकीकरण नहीं है, इसलिए यह समझना आसान नहीं है कि ठोस तौर पर क्या कहा जा रहा है। उदाहरण के लिए “कार्बन न्यूट्रल” होना और “क्लाइमेट न्यूट्रल” होना। इनका मतलब क्रमशः नेट-ज़ीरो CO2 उत्सर्जक होना और नेट-जीआर जीएचजी उत्सर्जक होना हो सकता है। लेकिन इनका उपयोग योजनाओं में परस्पर विनिमय के लिए भी किया जाता है, इसलिए यह जानना मुश्किल है कि प्रयास कहां सच कहाँ झूठ होगा।

-देशों और कंपनियों को ऐसे लक्ष्य निर्धारित करने चाहिए जो उचित योगदान को दर्शाते हों। वैश्विक स्तर पर, CO2 उत्सर्जन को 2030 तक आधा करने और 2050 तक नेट-शून्य तक पहुंचने की आवश्यकता है। देशों के बीच अवसर, क्षमता और जिम्मेदारी अलग-अलग हैं, इसलिए कुछ देशों को वैश्विक औसत से पहले नेट-शून्य तक पहुंचना होगा और यहां तक कि शुद्ध शून्य से आगे भी जाना होगा।

-जलवायु लक्ष्यों को कसने के लिए उत्तरदायी होना चाहिए। जैसा कि हम एक गर्म दुनिया का अनुभव करते हैं, राष्ट्र और कंपनियां यह तय कर सकती हैं कि कार्रवाई अधिक तेजी से की जानी चाहिए। त्वरण की समीक्षा और लक्ष्यों के पुनर्मूल्यांकन के लिए एक नियमित कार्यक्रम निर्धारित करके प्रोत्साहित किया जा सकता है, जैसे कि पहले से ही अल्प-अवधि के डीडीसी के लिए।

 

-निकटवर्ती NDCs के विवरण के लिए संयुक्त राष्ट्र की समीक्षा प्रक्रिया, हर पांच साल में उनका आकलन और संशोधन करना एक अच्छा प्रारंभिक बिंदु प्रदान करता है जिसे लंबी अवधि के नेट-शून्य लक्ष्यों को शामिल करने के लिए बढ़ाया जा सकता है। कंपनियों को ऐसा ही करना चाहिए और एक मानकीकृत समीक्षा प्रक्रिया को लागू करना चाहिए, हमारे द्वारा उल्लिखित पहलुओं पर विचार करते हुए, उनके शुद्ध-शून्य लक्ष्य की गुणवत्ता को ग्रेड करने के लिए।

इस लेख के प्रमुख लेखक और ग्रांथम इंस्टीट्यूट, इम्पीरियल कॉलेज लंदन में शोध के निदेशक, डॉ जोएरी रोगेलज कहते हैं, “जलवायु प्रतिज्ञाओं को स्पष्ट करने की आवश्यकता हैं। यह साफ़ करने की ज़रूरत है कि किन उत्सर्जन स्रोतों और गैसों को इन वादों में कवर किया गया हैं। क्या यह सिर्फ कार्बन है, या सभी ग्रीनहाउस गैसें हैं? नेट-ज़ीरो तक पहुँचने के लिए और कैसे किया जाएगा योजनाएं भी बताई जानी चाहिए।”

कार्बन डाई ऑक्साइड बढ़ते तापमान का मुख्य कारण है और शुद्ध-शून्य हाल्ट्स को और अधिक गर्म करने के लिए उनके उत्सर्जन को कम करता है। अन्य ग्रीनहाउस गैसें भी वार्मिंग पैदा करती हैं लेकिन वर्तमान में उनके उत्सर्जन को खत्म करना असंभव है। इसका मतलब है कि अब मीथेन उत्सर्जन को कम करना, उदाहरण के लिए, अतिरिक्त वार्मिंग में ताला लगाने से बचने के लिए महत्वपूर्ण है।

यहाँ अगर नज़र डाली जाए तमाम नेट ज़ीरो होने के वादों पर तो बड़े रोचक तथ्य और भिन्नताएं सामने आती हैं जो कि इस प्रकार हैं:

– यूरोपीय संघ 2050 तक सभी ग्रीनहाउस गैसों को लक्षित करता है

– चीन की शुद्ध-शून्य योजना केवल 2060 तक CO2 उत्सर्जन को संतुलित करने पर केंद्रित है

-अमेरिका के लिए बिडेन-हैरिस जलवायु योजना का लक्ष्य 2050 तक अर्थव्यवस्था में शुद्ध-शून्य तक पहुंचना है, लेकिन अभी तक यह नहीं कहा गया है कि कौन सी गैसें कवर की जाती हैं

– फ्रांस की रणनीति कार्बन तटस्थता की बात करती है लेकिन सभी ग्रीनहाउस गैसों तक फैल जाती है

यहाँ ध्यान देने वाली बात है कि शुद्ध-शून्य लक्ष्यों में साफ़ होना चाहिए कि वे उत्सर्जन में कटौती, सीधे तौर पर CO2 हटाने और उसे ऑफसेट करने को कैसे संयोजित करते हैं। वैज्ञानिक कहते हैं कि सबसे बेहतर तो उत्सर्जन को कम करना ही होगा क्योंकि जलवायु परिवर्तन के ख़िलाफ़ कार्रवाई का निश्चित रास्ता यही है।

वैश्विक लक्ष्य की ओर बढ़ने वाली जलवायु योजनाओं का निर्माण करते समय निष्पक्षता भी महत्वपूर्ण है। पेरिस समझौते की पार्टियों को लगातार इस बात का खुलासा करना चाहिए कि वे अपने शुद्ध-शून्य लक्ष्यों को उचित और पर्याप्त क्यों मानते हैं।

अब और 2030 के बीच क्या कार्रवाई की जाएगी, इस पर भी अधिक स्पष्टता की जरूरत है। नेट-शून्य लक्ष्य अंतिम बिंदु नहीं हैं। वे खुद मील के पत्थर हैं और आगे चल के शुद्ध- शून्य से शुद्ध-नकारात्मक उत्सर्जन लक्ष्य को पूरा करने में भूमिका निभाते हैं। इसलिए देशों को अपनी शुद्ध-शून्य योजनाओं की स्क्रूटिनी या मूल्यांकन का स्वागत होना चाहिए।

 

डॉ जोएरी रोगेलज ने आगे बताया, “सरकारों और कंपनियों को अधिक विस्तार प्रदान करना चाहिए और अपने शुद्ध-शून्य लक्ष्यों को सही ठहराना चाहिए। इसके लिए एक मुख्य बेंचमार्क COP26 होगा, जहां देश नए जलवायु प्रतिज्ञाओं को प्रस्तुत करेंगे। यदि वे मील के पत्थर, एक कार्यान्वयन योजना और नेट-शून्य बनाए रखने या नेट-नेगेटिव को बनाए रखने के लिए दीर्घकालिक इरादे के बारे में बयान देते हैं तो नेट शून्य लक्ष्य अधिक विश्वसनीय हैं। इन जोखिमों को निष्क्रियता, विविधताओं, और विफलता को छोड़कर। आज के शुद्ध-शून्य लक्ष्य केवल सुरक्षित दुनिया की ओर एक लंबी यात्रा की शुरुआत है।”

The views and opinions expressed by the writer are personal and do not necessarily reflect the official position of VOM.
This post was created with our nice and easy submission form. Create your post!

What do you think?

Written by Nishant

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

Comments

0 comments